Sunday, June 26, 2011

कनाडा से भारत तक......'बेशर्मी मोर्चा'

कनाडा के एक पुलिस अधिकारी द्वारा विश्वविद्यालयों की छात्राओं को दी गई एक सलाह की 'यदि लडकियां बलात्कार से बचना चाहती है तो उन्हें slut'(वैश्या) जैसे कपड़ों से परहेज करना होगा' के बाद दुनिया भर में इस पर जबरदस्त प्रतिक्रिया हई है.कनाडा,अमेरिका,ऑस्ट्रेलिया सहित अनेक देशों में महिलाओं ने 'slutwalk ' का आयोजन किया है जिसमे पुरुषों ने भी अच्छी भागीदारी की है.इन महिलाओं के अनुसार इन प्रदर्शनों के जरिये वे यह बताना चाहती है की बलात्कार जैसे अपराध कुछ पुरुषों की महिला विरोधी लम्पट मानसिकता का नतीजा है और उन्हें अपने
 मन मुताबिक कपडे पहनने का हक़ है.
           अब भारत में भी इस तरह कि ही  रैली के लिए तैयारियां चल रही है.डी.यु. में द्वितीय वर्ष की पत्रकारिता की छात्रा उमंग सभरवाल ने फेसबुक  के जरिये दिल्ली की छात्राओं से इस तरह की रैली में शामिल होने का आह्वान  किया है.इस  रैली का नाम उन्होंने '
बेशर्मी  
मोर्चा' रखा है.वही मुंबई में एक गैर सरकारी संस्था ने भी जुलाई के अंतिम सप्ताह में एक ऐसे ही विरोध प्रदर्शन का आयोजन करने का फैसला किया है.
     महिलाओं के लिए  ये कोई नई बात नहीं है की उनके कपड़ों से ही उनके चरित्र को आँका  जाता है.पढ़े लिखे पुरुषों में से भी कईयों की ये ही सोच है की महिलाओं के 'भड़कीले' वस्त्र पुरुषों की यौन उत्तेजना के लिए उत्प्रेरक का काम करते है जिससे की पुरुष खुद पर काबू नहीं रख पाते.वहीं कुछ महिलाओं का भी मानना है की जो महिलायें छोटे कपडे पहनती है उन्हें खुद से सती सावित्री  जैसे व्यवहार किये जाने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए.
            परन्तु मनोविज्ञान की माने तो बलात्कार जैसे अपराधों के पीछे दैहिक आकर्षण उतना बड़ा कारक नहीं है जितनी की पुरुषों की सदियों पुरानी वही सोच जो महिलाओं को हर हाल में दबाएँ रखना चाहती है.साथ ह़ी कई बार के अध्ययनओं में ये बात सामने आ चुकी है की बलात्कार की शिकार ज्यादातर वे ह़ी महिलायें होती है जो साड़ी या सलवार  सूट जैसे कपड़ों में होती है.कम कपड़ों वाला तर्क वैसे भी बहुत कमजोर है क्योंकि एक ८० साल की बुजुर्ग से लेकर ६ माह की बची तक कोई भी महिला आज के माहौल में सुरक्षित नहीं है.लेकिन फिर भी चाहे विकसित समझे जाने वाले पश्चमी देश हो या पिछड़े माने जाने वाले इस्लामिक राष्ट्र हो या फिर हों विकासशील भारत जैसे देश, महिलाओं को हर जगह पुरुषों की शिकारी के बजे शिकार को ह़ी दोषी ठहराने वाली मानसिकता का सामना करना ह़ी पड़ता है.
              इन सब बातों का विरोध महिलायें शुरू से करती भी रही है.हमारे देश में भी बहुत कुछ  इस बारे में लिखा जा रहा है.कुछ साल पहले दक्षिण भारत के एक शहर (नाम याद नहीं आ रहा) में कुछ इसी तरह के विरोध प्रदर्शन का आयोजन एक गैर सरकारी संस्था ने ह़ी किया था.जिसमे शहर की सबसे व्यस्त सड़कों पर लडकियां अलग अलग जगहों पर खडी हो जाती और वहाँ से गुजरने वाले लड़कों  को उसी तरह से घूरती जैसे लड़के लड़कियों को घूरते है.इसका मकसद लड़कों द्वारा लड़कियों को घूरे जाने की गंदी आदत का विरोध करना था क्योंकि इससे वे असहज महसूस करती है.इसके अलावा तहलका की निशा सुसन द्वारा श्रीराम सेना नामक एक हिंदूवादी संगठन के विरोध में चलाया गया एक कैम्पेन  भी बहत चर्चित रहा था.मंगलौर के एक पब  में लड़कियों की पिटाई करने वाले इस संगठन ने निशा के अभियान के बाद अपने आगे के ऐसे ही 'अभियान' वापस ले लिए थे.निशा का कैम्पेन  जिस तरह  विवादों में आ गया था वैसे ह़ी उमंग के द्वारा इस रैली का नाम बेशर्मी
मोर्चा रखे जाने पर कुछ लोगों ने अभी से आपत्ति करनी शुरू कर दी है.परन्तु उमंग का कहना है की ये नाम उन्होंने एक ग्रुप मीटिंग के बाद एकमत से चुना है ताकि लोग समझ जाए की हमारा मकसद क्या है और लड़कियों के छोटे कपड़ों का मतलब उनकी 'हाँ' न समझा जाये.
                मुझे लगता है की जब किसी भी गलत बात का विरोध करने के पारंपरिक तरीके काम न करे तो कुछ हटकर कदम उठाना  गलत नहीं है.बस ये ख़याल रहे की माहौल किस बुराई के खिलाफ बनाया जा रहा है.अभी भी जहाँ भी इस तरह के प्रदर्शन हो रहे है वहाँ इस मसले पर गंभीर  बहस  छिड गई है.लेकिन हमारे यहाँ कुछ लोग अभी से इसे प्रचार के भूखे लोगों का हथकंडा,संस्कृति के खिलाफ आदि मानने लगे है.पर चाहे जो हो कोशिश ये ह़ी होनी चाहिए की बहस इन अपराधों और इनके लिए महिलाओं को ह़ी जिम्मेदार  ठहराने वाली प्रवृति  पर ह़ी केन्द्रित होनी चाहिए.
                        कुछ महिलाओं को लग सकता है की इस तरह के विरोध प्रदर्शनों से पुरुषों की मानसिकता में कोई परिवर्तन नहीं आने वाला है.ये बात सही भी है लेकिन इस बहाने जो बहस चलती है तो लोग थोडा बहुत सोचने को मजबूर होते है.और मान लेते है की पुरुषों पर कोई फर्क नहीं पड़ने  वाला तो भी कम से कम वो महिलाएं तो इस बारे में गंभीर होंगी जिन्होंने पुरुषों की इन आदतों को सामान्य मान लिया है.
                     जहाँ तक बात है विरोध के तरीके की तो ये एक अच्छे उद्देश्य के लिए ह़ी किया जा रहा है.और पुरुषों की आपत्ति की  असली वजह विरोध  का तरीका नहीं है दरअसल उन्हें इन सब सवालों से ह़ी परेशानी है जो महिलायें उठा रही है और कम से कम इन बातों का विरोध महिलायें किसी भी तरीके से कर के देख ले,कुछ पुरुषों की गालियाँ तो उन्हें पड़ेंगी ह़ी,फिर चाहे वो कोई छात्रा हो या कोई साहित्यकार.यहाँ नेट पर भी इस तरह के उदाहरण भरे पड़े है.वही कुछ महिलाओं का कहना है की विरोध का ये तरीका अपनाने पर तो बलात्कार जैसा अपराध, जिस पर गंभीर बहस होनी चाहिए वो बहुत हल्केपन में लिया जायेगा.लेकिन ऐसा हैं नहीं क्योंकि  हलके में तो इसे अभी समाज ले रहा है.यदी हमारा समाज ये मानता है की बलात्कार और छेडखानी का कारण महिलाओं के छोटे कपडे ह़ी है तो इसका मतलब पहले से ह़ी महिलाओं के प्रति इन अपराधों को हलके में लिया जा रहा है.और इसी का तो विरोध किया जा रहा है. ऐसे विरोध प्रदर्शन यदि एक बहस का माहौल तैयार करते है तो इसमें बुराई क्या है.